cough and sputum (खाँसी एवं बलगम)

cough and sputum

cough and sputum श्वसन मार्ग से उत्तेजक पदार्थो बाह्य वस्तुओ और श्रावणो को बहार निकलने के लिए खाँसी एक प्रतिक्रियात्मिक क्रिया है। और ये सुरक्षा के लिए भी बहुत ज़रूरी है। ब्रान्कोन्यूमोनिया से पीड़ित और कमजोर रोगी खांसने में अक्षम होते है। इसलिए गाढ़े श्रावणो से छोटी – छोटी श्वास नलिका बंद होने लगती हैऐसे समय में श्वसन मार्ग साफ रखने लिए फिज़िओथेरपि व् पम्प के द्वारा बहार निकलने की आवकश्यता हो सकती हो.

ऊपरी श्वसन मार्ग की झिल्ली के उत्तेजन से भी खांसी आती है। जो की इतनी उपयोगी नहीं है क्योंकि खांसी के साथ बहार निकलने के लिए कोई पदार्थ या श्रावण नहीं होता है

एसे  खांसी से रोगी को पूरी रात नींद नहीं आती है।  और बेचैनी भी होती है।  तब ऐसे समय में खांसी की दवाइयाँ (cough couppressant) दिया जाता है।गीली खांसी वो होती है जो खांसी के साथ बलगम भी बहार आ जाता है। तथा बलगम की जाँच के लिए रोगी को बलगम को एकत्रित कर कागज का ढक्कनदार छोटा पात्र दिया जाता है।

कागज का पत्र इसलिए दिया जाता है क्योकि ये उपयोग के बाद आसानी से जलाया जा सके। श्वसनिक बीमारी के बारे में जानने के लिए बलगम की जाँच होती है खांसी के साथ आये बलगम की मात्रा को भी नोट करना चाहिए।

cough and sputum

जब संक्रमण कम होता है तो बलगम पतला व् साफ  चिपचिपा होता है।  और जब संक्रमण बढ़ जाता है तो बलगम ज़्यादा गाढ़ा पिपयुत्त बन जाता है।और गाढ़ा  बलगम से बदबू भी आती है। ब्रोन्किएक्टेसिस व् फुफ्फसीय फोड़े के समय यह छोटी – छोटी रूप में होता है।

ये भी पढ़े – बाल गिरने का इलाज

–  इसी आधार पर फिज़िशियन बीमारी का आकलन कर के पता लगा सकते है। 

खाँसी के साथ खून का आना-खाँसी के साथ खून आने की स्तिथि को ‘रक्तयुक्त खाँसी ‘ (Haemoptysis) कहते है। और ये ज़्यादा तर फुप्फुसीय रोग व् श्वसन नलिका के कैंसर  मामलों के क्षेत्र की रक्तवाहिकाओं के फटने से होता है।आम तोर पर खून नहीं आता है पर ज़्यादा ज़ोर लगा कर खांसने बलगम पर खून की धारिया आती  है।

नोट – दो प्रकार से बलगम की जाँच करने के लिए प्रयोगशाला में भेजा जाता है।(1) बैक्टीरिया की जाँच और संवद्धर्न (culture) के लिए ताकि संक्रमण को जाना जा सके और आवश्यकता होने पर एन्टीबायोटिक की दवाई दिया जा सके।(2)श्वास नलिका के कैंसर के लिए कोशिकाओं (malignat cells) जानकरी के लिए माइक्रोस्कोप के जरिये बलगम की परीक्षण किया जाता है।