appendix meaning in hindi |अपेंडिक्स फटने से हो सकती है मौत जानिए कैसे बचे

appendix meaning in hindi –आज के इस पोस्ट में हम जानेंगे अपेंडिक्स के बारे में की ये क्या होता है, क्यों होता है। और अगर इसका ईलाज न करवाया जाए तो क्या सच में जान जाने का खतरा हो सकता है। ऐसी बहुत सी बातो के बारे में आज हम जानेगे –

  • अपेंडिक्स क्या होता है ?
  • अपेंडिक्स के लक्षण क्या है?
  • अपेंडिक्स का कारण ?
  • अपेंडिक्स होने के बाद कौन सी जाँच करवाए ?
  • अपेंडिक्स क्या खाने की वजह से हो जाता है ?
  • अपेंडिक्स का ईलाज
  • अपेंडिक्स के ऑपरेशन के बाद क्या नहीं खाना चाहिए ?

wikipedia

अपेंडिक्स क्या होता है ? appendix meaning in hindi/appendix kya hota hai

appendix in hindi- हमारे पेट से जुडी एक गंभीर समस्या होती है। जो की हमारे बड़ी आँत से जुडी होती है। ये एक बड़ी आँत का ही बहुत छोटा हिस्सा होता है। जो किसी काम का नहीं होता। ये एक गंभीर बीमारी है जिसे हम अपेंडिक्स साइटिस कहा जाता है। मतलब इस हिस्से में सूजन हो जाती है इंफेक्शन की वजह से। और ये इंफेक्शन क्यों हो जाती है इसके बारे में हम आपको आगे बताएँगे।

किस हिस्से में ज़्यादा दर्द होता है ?

इसकी जो शुरुवात होती है वो पेट के बीचो बिच दर्द शुरू होता है, आपको पेट के बिच में दर्द होना शुरू होगा इसके बाद ये दर्द आपके पेट के राइट साइड में होगा थोड़ी निचे के तरफ। और जब ये बढ़ जाता है तो पुरे पेट में ही होने लगता है। जिससे आपको बहुत ज़्यादा तकलीफ हो सकती है।

अपेंडिक्स होने की मुख्य वजह ? appendix meaning in hindi

appendix meaning in hindi

appendix meaning in hindi

इसमें सूजन होने की वजह बहुत से कारण होते है। जैसे अपेंडिक्स का जो एरिया 7.2 से ले कर 58.8 mm तक हो जाता है, ऐसा इसलिए होता है क्युकि इंफेक्शन ईकोलाई या बैक्ट्रोइड्स फ्रोगिलिस के कारण ये हो जाता है।

इसके कारण क्या हो सकते है ?/ appendix meaning

  • आंतो में इंफेक्शन हो जाना
  • कब्ज का होना जिन लोगो को ज़्यादा कब्ज की समस्या होती है उनको ये रोग होने का ज़्यादा खतरा होता है।
  • पेट में पलने वाले ख़राब बैक्टीरिया के बहुत बढ़ जाने की वजह से भी होता है जैसे – ईकोलाई
  • म्यूकस के जमने की वजह से भी होता है।

अन्य कारण -appendix meaning in hindi

  1.  खाना सही समय में न खाना या खाना ठीक से न पचना और जल्दी जल्दी खाना खाना, ये भी एक समस्या होती है। जिससे हमारी आंतो में खाना ज़्यादा देर तर रहता है। आपके भोजन में अगर फाइबर की मात्रा कम है रेशे की मात्रा कम है। मैदा वाले भोजन ज़्यादा खाते है ताली चीज़े ज़्यादा खाते है या घी तेल जो ज़्यादा खाते है उनको ये रोग होने की संभावना ज़्यादा होती है। 3.अगर भोजन के कुछ कण चले जाए या जो हम ज़्यादा बीज वाले भोजन खाते है तो उसके कुछ अंश अपेंडिक्स में चले जाते है। 4. अगर फलो के बीज अपेंडिक्स में फस जाए तो इसके कारण भी आपको प्रॉब्लम हो सकती है। 5. अगर वह ये चले जाए तो सूजन की वजह से फूल कर अपेंडिक्स का साइज बड़ा हो जाता है।अगर अपेंडिक्स पर किसी प्रकार का कोई कंठ हो जाता है या कोई चोट लग जाती है तो ये भी इसका एक कारण हो सकता है।

image credit by – (J).

अपेंडिक्स के लक्षण क्या है ?

पेट के ऊपरी भाग में दर्द का उठना
पेट के निचे वाले हिस्से में दर्द होना
भूख का कम लगना
खट्टी डकारे आना
जी मचलना, उलटी होना, दस्त होना, कब्ज होना
पेट में सूजन होना।
गैस बनना या पास करते समय बहुत दर्द का होना – ये इसके आम लक्षण होते है।

अपेंडिक्स होने पर कौन सी जाँच करवाना चाहिए ?

इसके लिए आपके जो डॉक्टर है वो सर्जन या गैस्ट्रोलॉजी,पेट के डॉक्टर है वो आपका चेकअप करते है आपके पेट के पास दबा कर देखेंगे की आपको दर्द कहा पर है इससे वो पता करते है। इसके अलावा एक्सरे/usg /सोनोग्राफी करवाते है और टोमोग्राफी भी किया जाता है। सी टी / स्कैन /और आपके डॉक्टर आपकी खून और यूरिन की जाँच भी करवा सकते है जिससे पता चल सके की आपको कितना इंफेक्शन है।

अपेंडिक्स का इलाज क्या है?

इसका सबसे अच्छा इलाज सर्जरी ही है इसमें सर्जरी के मदद से अपेंडिक्स का बढ़ा हुवा हिस्से को काट कर निकल दिया जाता है। और टाके लगा दिया जाता है जिससे पेट पर टाके का निशान रह जाता है।

क्या खाने की वजह से अपेंडिक्स की समस्या आती है?

जैसा की हमने आपको पहले भी बताया है की आपका भोजन ज़्यादा तेल वाला हो या तली चीज़े ज़्यादा खाते है और सीड्स ज़्यादा खाते है तो इसकी वजह से भी हो जाता है। खाना ठीक से न पचना या बहुत जल्दी जल्दी खाना खाने से हो सकता है। इसके अलावा भी बहुत सी चीज़े है जिसकी वजह से आपको अपेंडिक्स हो सकता है जैसे – घी,तेल,मक्खन,पनीर,अंडा,मीट जैसे भरी प्रोटीन वाला भोजन करना। क्युकि इन सब को पचने में भी आपके पेट को ज़्यादा मेहनत करना पड़ता है।

अपेंडिक्स का घरेलु इलाज – appendix meaning in hindi

अगर आपको अपेंडिक्स का घरेलु इलाज करना है तो उसके लिए सबसे अच्छा है की जब आपको ज़्यादा दर्द हो रहा हो तो आप इमली के बीज को पीस कर दर्द वाली जगह पर लगाए दर्द कम हो जाता है। इसके अलावा आप मेथी का पानी उबाल कर पीये तो उससे भी आपके दर्द में बहुत राहत मिलती है। इसके अलावा दर्द वाली जगह पर राई को पीस कर लगाए इससे भी आपको दर्द में आराम मिलेगा, और बहुत ज़्यादा दर्द के लिए आप अरंडी के तेल का भी इस्तेमाल कर सकते है,

खाने में इन चीज़ो का सेवन करे –

इसके अलावा कुछ और भी चीज़े है जो आप सेवन कर सकते है। जैसे – 1 – छाछ में सेंधा नमक मिला कर पीने से आपको अच्छा फायदा मिलता है। 2 – लहसुन की 3 से 4 कलियाँ खा सकते है इससे भी आपको दर्द कम महसूस होगा इनमे एंटी बैक्टीरियल गुण भी पाए जाए है, जो आपको काफी फायदा देता है। 3 – हरी सब्जी में पालक का ज़्यादा से ज़्यादा सेवन करना चाहिए इसमें फाइबर की मात्रा काफी अधिक होती है। इसके अलावा आप भोजन करने से पहले सेंधा नमक का इस्तेमाल कर सकते है सलाद में डाल सकते है, इसके अलावा दूध को अच्छे से उबाल कर पीये दर्द में आराम मिलता है। अपेंडिक्स के मरीज को ज़्यादा पानी पीना चाहिए जो आपके लिए एक फायदेमंद साबित होगा।

अपेंडिक्स के ऑपरेशन के बाद क्या नहीं खाना चाहिए ?

अनाज- चावल,मैदा,
दाल- उड़द,राजमा,छोले,
सब्जी व फल – बैंगन,नींबू,सरसों, टमाटर, खट्टे अंगूर, कटहल, अरबी। ये सब कम से कम एक महीने तक नहीं खाना चाहिए।

ध्यान दे – अगर आप दर्द के बावजूद भी अपेंडिक्स का ऑपरेशन नहीं करवाते है तो अपेंडिक्स फैट भी सकता है और जिससे बहुत दर्द का सामना भी करना पढ़ सकता है इसके बाद आपके पुरे पेट में इंफेक्शन फैल सकता है जिससे जान भी जा सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.